Raebareli News: सीएमओ दफ्तर में गुपचुप तरीके से कटवा दिए लाखों के पेड़

Welcome to Kalam Kartvya - संवाद न्यूज एजेंसी, रायबरेली Published by: लखनऊ ब्यूरो Updated Sun, 16 Oct 2022 04:42 PM IST सार लाखों रुपये की कीमत के पेड़ बिना विभाग की अनुमति के ही कटवा दिए गए हैं। मामले में जांच के आदेश दिए गए हैं। प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : pexel विज्ञापन ख़बर सुनें विस्तार सीएमओ कार्यालय परिसर में लगे लाखों कीमत के कई हरे भरे पेड़ों को स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने गुपचुप तरीके से कटवा कर मोटे दाम पर बेच डाला। इसके लिए वन विभाग से अनुमति लेना तो दूर पेड़ कटवाने की जानकारी तक देना मुनासिब नहीं समझा। '; if(typeof is_mobile !='undefined' && is_mobile()){ googletag.cmd.push(function() { googletag.display('div-gpt-ad-1514643645465-2'); }); } elImageAd.innerHTML = innerHTML; elImageAd.className ='ad-mb-app width320 hgt270 mt-10 for_premium_user_remove pwa_for_remove'; } if(showVideoAd == true){ let elImageAd = document.getElementById("showVideoAd"); elImageAd.innerHTML = ''; elImageAd.className ='clearfix ad-mb-app mt-10 for_premium_user_remove pwa_for_remove'; } function anyviewAd(){ let scriptEle = document.createElement("script"); let elImageAd = document.getElementById("showVideoAd"); scriptEle.setAttribute("src", "https://tg1.aniview.com/api/adserver/spt?AV_TAGID=631f2083311a510081136005&AV_PUBLISHERID=62d66949dc3de81859122a54"); scriptEle.setAttribute("type", "text/javascript"); scriptEle.setAttribute("async", "async"); scriptEle.setAttribute("data-content.cms-type","playlist"); scriptEle.setAttribute("data-content.cms-id","63201c80e4c07cb236059cd2"); scriptEle.setAttribute("id","AV631f2083311a510081136005"); elImageAd.appendChild(scriptEle); } मामला उजागर हो जाने के बाद अब डीएफओ आशुतोष जायसवाल ने इस पर आपत्ति जताते हुए साफ किया कि विभाग को पेड़ कटवाने के संबंध में कोई सूचना नहीं दी गई। बिना अनुमति सरकारी स्वामित्व के पेड़ नहीं काटे जा सकते हैं। इस लिए पूरे मामले की जांच होगी। दूसरी तरफ एसीएमओ डॉ. अंशुमान सिंह का कहना है कि इन पेड़ों के कारण नुकसान हो रहा था। इस लिए वन विभाग को सूचना देकर पेड़ों को कटवाया गया है। स्वास्थ्य विभाग परिसर में लगे कई बड़े और पुराने पेड़ों को एक-एक करके काटकर ठेकेदार उठा ले गए हैं। शनिवार को भी पेड़ों पर आरा चल रहा था। इसमें कई पेड़ पूरी तरह से हरे भरे भी थे। सीएमओ कार्यालय के पीछे परिसर में ही कंडम वाहन भी रखे हैं। परिसर में काफी संख्या में पुराने और हरे भरे पेड़ भी लगे हैं। कई बार हुई कोशिश के बाद भी कंडम वाहनों को उठाने व पेड़ों की नीलामी की प्रक्रिया नहीं हो सकी। इसके बाद विभागीय अफसरों ने गुपचुप तरीके से हरे पेड़ों पर आरा चलवा दिया। इस दौरान नीम के कई पेड़ों की हरी भरी मोटी डाल भी काटकर ठेकेदार उठा ले गया। भवन के पीछे पेड़ों के निशान कटान के गवाह बने हैं। इस संबंध में एसीएमओ डॉ. अंशुमान सिंह ने बताया कि परिसर में एएनएमटीसी का संचालन कराया गया है। पेड़ों के कारण इसके संचालन में परेशानी आने के साथ ही पेड़ गिरने से भवन के क्षतिग्रस्त होने का खतरा भी बढ़ गया था। इसी लिए सुरक्षा के दृष्टिगत इन पेड़ों को वन विभाग को सूचना देने के बाद कटवाया जा रहा है। दूसरी तरफ डीएफओ आशुतोष जायसवाल ने स्वास्थ्य विभाग के स्तर से पेड़ों की कटान के संबंध में कोई भी जानकारी देने अथवा अनुमति लेने की बात से साफ इंकार करते हुए कहा कि इसकी जांच कराई जाएगी। - By Kalam Kartvya.

Raebareli News: सीएमओ दफ्तर में गुपचुप तरीके से कटवा दिए लाखों के पेड़
Welcome to Kalam Kartvya -
संवाद न्यूज एजेंसी, रायबरेली Published by: लखनऊ ब्यूरो Updated Sun, 16 Oct 2022 04:42 PM IST

सार

लाखों रुपये की कीमत के पेड़ बिना विभाग की अनुमति के ही कटवा दिए गए हैं। मामले में जांच के आदेश दिए गए हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : pexel

विज्ञापन

ख़बर सुनें

विस्तार

सीएमओ कार्यालय परिसर में लगे लाखों कीमत के कई हरे भरे पेड़ों को स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने गुपचुप तरीके से कटवा कर मोटे दाम पर बेच डाला। इसके लिए वन विभाग से अनुमति लेना तो दूर पेड़ कटवाने की जानकारी तक देना मुनासिब नहीं समझा।

'; if(typeof is_mobile !='undefined' && is_mobile()){ googletag.cmd.push(function() { googletag.display('div-gpt-ad-1514643645465-2'); }); } elImageAd.innerHTML = innerHTML; elImageAd.className ='ad-mb-app width320 hgt270 mt-10 for_premium_user_remove pwa_for_remove'; } if(showVideoAd == true){ let elImageAd = document.getElementById("showVideoAd"); elImageAd.innerHTML = ''; elImageAd.className ='clearfix ad-mb-app mt-10 for_premium_user_remove pwa_for_remove'; } function anyviewAd(){ let scriptEle = document.createElement("script"); let elImageAd = document.getElementById("showVideoAd"); scriptEle.setAttribute("src", "https://tg1.aniview.com/api/adserver/spt?AV_TAGID=631f2083311a510081136005&AV_PUBLISHERID=62d66949dc3de81859122a54"); scriptEle.setAttribute("type", "text/javascript"); scriptEle.setAttribute("async", "async"); scriptEle.setAttribute("data-content.cms-type","playlist"); scriptEle.setAttribute("data-content.cms-id","63201c80e4c07cb236059cd2"); scriptEle.setAttribute("id","AV631f2083311a510081136005"); elImageAd.appendChild(scriptEle); }

मामला उजागर हो जाने के बाद अब डीएफओ आशुतोष जायसवाल ने इस पर आपत्ति जताते हुए साफ किया कि विभाग को पेड़ कटवाने के संबंध में कोई सूचना नहीं दी गई। बिना अनुमति सरकारी स्वामित्व के पेड़ नहीं काटे जा सकते हैं। इस लिए पूरे मामले की जांच होगी। दूसरी तरफ एसीएमओ डॉ. अंशुमान सिंह का कहना है कि इन पेड़ों के कारण नुकसान हो रहा था। इस लिए वन विभाग को सूचना देकर पेड़ों को कटवाया गया है।

स्वास्थ्य विभाग परिसर में लगे कई बड़े और पुराने पेड़ों को एक-एक करके काटकर ठेकेदार उठा ले गए हैं। शनिवार को भी पेड़ों पर आरा चल रहा था। इसमें कई पेड़ पूरी तरह से हरे भरे भी थे। सीएमओ कार्यालय के पीछे परिसर में ही कंडम वाहन भी रखे हैं।

परिसर में काफी संख्या में पुराने और हरे भरे पेड़ भी लगे हैं। कई बार हुई कोशिश के बाद भी कंडम वाहनों को उठाने व पेड़ों की नीलामी की प्रक्रिया नहीं हो सकी। इसके बाद विभागीय अफसरों ने गुपचुप तरीके से हरे पेड़ों पर आरा चलवा दिया। इस दौरान नीम के कई पेड़ों की हरी भरी मोटी डाल भी काटकर ठेकेदार उठा ले गया। भवन के पीछे पेड़ों के निशान कटान के गवाह बने हैं।

इस संबंध में एसीएमओ डॉ. अंशुमान सिंह ने बताया कि परिसर में एएनएमटीसी का संचालन कराया गया है। पेड़ों के कारण इसके संचालन में परेशानी आने के साथ ही पेड़ गिरने से भवन के क्षतिग्रस्त होने का खतरा भी बढ़ गया था। इसी लिए सुरक्षा के दृष्टिगत इन पेड़ों को वन विभाग को सूचना देने के बाद कटवाया जा रहा है। दूसरी तरफ डीएफओ आशुतोष जायसवाल ने स्वास्थ्य विभाग के स्तर से पेड़ों की कटान के संबंध में कोई भी जानकारी देने अथवा अनुमति लेने की बात से साफ इंकार करते हुए कहा कि इसकी जांच कराई जाएगी।

- By Kalam Kartvya.