Jharkhand: दो-दो मुख्यमंत्रियों को पटखनी देगा झारखंड का दिग्गज, रघुवर दास के बाद अब सोरेन का नंबर?

Welcome to Kalam Kartvya - सार संघ परिवार की वैचारिक पृष्ठभूमि से आने वाले सरयू राय की करीबी फिर से भाजपा से बढ़ रही है। उन्हें लगातार संघ के कार्यक्रमों में देखा जा रहा है। जमशेदपुर में हुए विजयादशमी उत्सव में भी वे शामिल हुए थे। ऐसे में चर्चाओं का बाजार गरम है।  सरयू राय ख़बर सुनें विस्तार झारखंड की सियासत में बहुत कुछ चल रहा है। दूर से स्थिति सामान्य लग रही हो, लेकिन भीतरघाने बहुत कुछ पक रहा है। अब इसके आसार भी नजर आने लगे हैं। खबर है कि झारखंड के दिग्गज नेता और पूर्व मंत्री सरयू राय सीएम हेमंत सोरेन को झटका दे सकते हैं। इससे पहले भी उन्होंने भाजपा से अलग होकर पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को पटखनी दी थी।  '; if(typeof is_mobile !='undefined' && is_mobile()){ googletag.cmd.push(function() { googletag.display('div-gpt-ad-1514643645465-2'); }); } elImageAd.innerHTML = innerHTML; elImageAd.className ='ad-mb-app width320 hgt270 mt-10 for_premium_user_remove pwa_for_remove'; } if(showVideoAd == true){ let elImageAd = document.getElementById("showVideoAd"); elImageAd.innerHTML = 'Trending Videos'; anyviewAd(); elImageAd.className ='clearfix ad-mb-app mt-10 for_premium_user_remove pwa_for_remove'; } function anyviewAd(){ let scriptEle = document.createElement("script"); let elImageAd = document.getElementById("showVideoAd"); scriptEle.setAttribute("src", "https://tg1.aniview.com/api/adserver/spt?AV_TAGID=631f2083311a510081136005&AV_PUBLISHERID=62d66949dc3de81859122a54"); scriptEle.setAttribute("type", "text/javascript"); scriptEle.setAttribute("async", "async"); scriptEle.setAttribute("data-content.cms-type","playlist"); scriptEle.setAttribute("data-content.cms-id","63201c80e4c07cb236059cd2"); scriptEle.setAttribute("id","AV631f2083311a510081136005"); elImageAd.appendChild(scriptEle); } दरअसल, इस बात की चर्चा जोर पकड़ रही है कि सरयू राय वापस भाजपा का दामन थाम सकते हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में टिकट न मिलने के कारण उन्होंने भारत से नाता तोड़ लिया था और तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दाव की जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में उन्होंने रघुवर दाव जैसे नेता को करारी शिकस्त दी थी और चुनाव में उन्हें हराकर सीएम सोरेन के साथ हो लिए थे।  फिर से से बढ़ रही करीबी  संघ परिवार की वैचारिक पृष्ठभूमि से आने वाले सरयू राय की करीबी फिर से संघ से बढ़ रही है। उन्हें लगातार संघ के कार्यक्रमों में देखा जा रहा है। जमशेदपुर में हुए विजयादशमी उत्सव में भी वे शामिल हुए थे। इसके अलावा पिछले दिनों भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश और बाबूलाल मंडारी जैसे नेताओं से भी उनकी लंबी चर्चा हुई थी। दो दिन पहले ही विंध्याचल में संघ प्रमुख मोहन भागवत से भी उनकी मुलाकात हुई थी।  सरयू राय चर्चाओं को कर रहे खारिज  भाजपा व संघ से बढ़ती उनकी बढ़ती नजदीकी के बार चर्चाओं का बाजार गरम है। हालांकि, सरयू राय ऐसी किसी भी संभावना से इनकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि संघ से उनका वैचारिक नाता रहा है, ऐसे में इन मुलाकातों को स्वभाविक तौर पर लेना चाहिए। उनका कहना है कि भाजपा के कई नेताओं से उनके पुराने संबंध है। मुलाकात के दौरान कई अन्य विषयों पर बातचीत होती है। वहीं भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने इस पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया।  - By Kalam Kartvya.

Jharkhand: दो-दो मुख्यमंत्रियों को पटखनी देगा झारखंड का दिग्गज, रघुवर दास के बाद अब सोरेन का नंबर?
Welcome to Kalam Kartvya -

सार

संघ परिवार की वैचारिक पृष्ठभूमि से आने वाले सरयू राय की करीबी फिर से भाजपा से बढ़ रही है। उन्हें लगातार संघ के कार्यक्रमों में देखा जा रहा है। जमशेदपुर में हुए विजयादशमी उत्सव में भी वे शामिल हुए थे। ऐसे में चर्चाओं का बाजार गरम है। 

सरयू राय

सरयू राय

ख़बर सुनें

विस्तार

झारखंड की सियासत में बहुत कुछ चल रहा है। दूर से स्थिति सामान्य लग रही हो, लेकिन भीतरघाने बहुत कुछ पक रहा है। अब इसके आसार भी नजर आने लगे हैं। खबर है कि झारखंड के दिग्गज नेता और पूर्व मंत्री सरयू राय सीएम हेमंत सोरेन को झटका दे सकते हैं। इससे पहले भी उन्होंने भाजपा से अलग होकर पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को पटखनी दी थी। 

'; if(typeof is_mobile !='undefined' && is_mobile()){ googletag.cmd.push(function() { googletag.display('div-gpt-ad-1514643645465-2'); }); } elImageAd.innerHTML = innerHTML; elImageAd.className ='ad-mb-app width320 hgt270 mt-10 for_premium_user_remove pwa_for_remove'; } if(showVideoAd == true){ let elImageAd = document.getElementById("showVideoAd"); elImageAd.innerHTML = '

Trending Videos

'; anyviewAd(); elImageAd.className ='clearfix ad-mb-app mt-10 for_premium_user_remove pwa_for_remove'; } function anyviewAd(){ let scriptEle = document.createElement("script"); let elImageAd = document.getElementById("showVideoAd"); scriptEle.setAttribute("src", "https://tg1.aniview.com/api/adserver/spt?AV_TAGID=631f2083311a510081136005&AV_PUBLISHERID=62d66949dc3de81859122a54"); scriptEle.setAttribute("type", "text/javascript"); scriptEle.setAttribute("async", "async"); scriptEle.setAttribute("data-content.cms-type","playlist"); scriptEle.setAttribute("data-content.cms-id","63201c80e4c07cb236059cd2"); scriptEle.setAttribute("id","AV631f2083311a510081136005"); elImageAd.appendChild(scriptEle); }


दरअसल, इस बात की चर्चा जोर पकड़ रही है कि सरयू राय वापस भाजपा का दामन थाम सकते हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में टिकट न मिलने के कारण उन्होंने भारत से नाता तोड़ लिया था और तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दाव की जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में उन्होंने रघुवर दाव जैसे नेता को करारी शिकस्त दी थी और चुनाव में उन्हें हराकर सीएम सोरेन के साथ हो लिए थे। 

फिर से से बढ़ रही करीबी 
संघ परिवार की वैचारिक पृष्ठभूमि से आने वाले सरयू राय की करीबी फिर से संघ से बढ़ रही है। उन्हें लगातार संघ के कार्यक्रमों में देखा जा रहा है। जमशेदपुर में हुए विजयादशमी उत्सव में भी वे शामिल हुए थे। इसके अलावा पिछले दिनों भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश और बाबूलाल मंडारी जैसे नेताओं से भी उनकी लंबी चर्चा हुई थी। दो दिन पहले ही विंध्याचल में संघ प्रमुख मोहन भागवत से भी उनकी मुलाकात हुई थी। 

सरयू राय चर्चाओं को कर रहे खारिज 
भाजपा व संघ से बढ़ती उनकी बढ़ती नजदीकी के बार चर्चाओं का बाजार गरम है। हालांकि, सरयू राय ऐसी किसी भी संभावना से इनकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि संघ से उनका वैचारिक नाता रहा है, ऐसे में इन मुलाकातों को स्वभाविक तौर पर लेना चाहिए। उनका कहना है कि भाजपा के कई नेताओं से उनके पुराने संबंध है। मुलाकात के दौरान कई अन्य विषयों पर बातचीत होती है। वहीं भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने इस पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। 

- By Kalam Kartvya.