RSS कार्यालय को CISF की सुरक्षा दिये जाने पर कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधा

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के कार्यालय को सीआईएसएफ की सुरक्षा मुहैया कराए जाने को लेकर सरकार पर कटाक्ष करते हुए मंगलवार को कांग्रेस ने कहा कि आरएसएस जैसी निजी संस्थाओं को सरकारी सुरक्षा और हवाई अड्डों की सुरक्षा की जिम्मेदारी निजी सुरक्षाकर्मियों को दी जा रही है।

RSS कार्यालय को CISF की सुरक्षा दिये जाने पर कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधा
RSS कार्यालय को CISF की सुरक्षा दिये जाने पर कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधा

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के कार्यालय को सीआईएसएफ की सुरक्षा मुहैया कराए जाने को लेकर सरकार पर कटाक्ष करते हुए मंगलवार को कांग्रेस ने कहा कि आरएसएस जैसी निजी संस्थाओं को सरकारी सुरक्षा और हवाई अड्डों की सुरक्षा की जिम्मेदारी निजी सुरक्षाकर्मियों को दी जा रही है।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव जयराम रमेश ने अपने ट््वीट में कहा, ‘‘हवाई अड्डों की सुरक्षा की जिम्मेदारी केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के 3,000 पदों को खत्म करके प्राइवेट सुरक्षाकर्मियों को दी जाएगी। सीआईएसएफ के जवान ‘हमारे दो’ और आरएसएस कार्यालय की सुरक्षा करेंगे। कितना विचित्र है न। सरकारी संपत्ति के लिये निजी सुरक्षाकर्मी और निजी संस्थाओं के लिये सरकारी सुरक्षाकर्मी।’’   


RSS के दिल्ली कार्यालय को मिली CISF की सुरक्षा, मिलेंगे कमांडो

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में स्थित आरएसएस कार्यालय को केन्द्र सरकार द्वारा सशस्त्र सीआईएसएफ की सुरक्षा दिए जाने पर कांग्रेस ने यह टिप्पणी की है। अधिकारियों ने बताया कि मध्य दिल्ली के झंडेवालान स्थित आरएसएस के मुख्य कार्यालय ‘केशव कुंज’ और ‘उदासीन आश्रम’ के पास स्थित कैंप कार्यालय को एक सितंबर से सीआईएसएफ की सुरक्षा प्रदान की जा रही है।  

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने केन्द्रीय खुफिया एजेंसियों से मिली जानकारी के आधार पर इस सुरक्षा कवर को मंजूरी दी है। उन्होंने बताया कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को पहले से ‘जेड प्लस’ सुरक्षा मिली हुई है और नागपुर स्थित आरएसएस मुख्यालय की सुरक्षा भी सीआईएसएफ के जिम्मे है।