22 फिल्म अभिनेताओं ने मोदी को धोखा दिया या मोदी ने उन्हें धोखा दिया? निवेश के नाम पर लोगों से ठगी

राज्य सरकार ने वाइब्रेंट समिट से फिल्म सिटी की स्थापना के लिए 10 स्थानों का पता लगाने के लिए निवेश प्रतिबद्धता मांगी थी। 3 हजार करोड़ के एक, ऐसा 22 स्पेशल फिल्म जोन बनने थे। कुछ नहीं हुआ।

22 फिल्म अभिनेताओं ने मोदी को धोखा दिया या मोदी ने उन्हें धोखा दिया? निवेश के नाम पर लोगों से ठगी

गांधीनगर, 13 सितंबर 2022

जब नरेंद्र मोदी 12 साल तक गुजरात के मुख्यमंत्री रहे, तब तक 22 फिल्म अभिनेताओं और निर्माताओं ने फिल्म उद्योग के लिए 60 हजार करोड़ रुपये निवेश करने का वादा किया था। जिसमें किसी ने भी निवेश न करके देश के मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पोल खोली है राज्य सरकार ने वाइब्रेंट समिट से फिल्म सिटी की स्थापना के लिए 10 स्थानों का पता लगाने के लिए निवेश प्रतिबद्धता मांगी थी। 3 हजार करोड़ के एक, ऐसा 22 स्पेशल फिल्म जोन बनने थे। कुछ नहीं हुआ।

ईस घटनाओ की, पुरे 12 सालकी अच्छी फिल्म बन शकती है।

अमिताभ बच्चन, हेमा मालिनी, सनी लियोन, अजय देवगन, परेश रावल, अनुपम खेर, अक्षय कुमार, संजय दत्त, जैकी श्रॉफ, रवीना टंडन, शत्रुधन सिंहां, विनोद खन्ना, धर्मेंद्र, प्रीति जिंटा, मॉडल सरलीन चोरा, प्रियंका फिल्म के लोगों में शामिल हैं। राज चोपड़ा, सलमान खान, विवेक ओबेरॉय, जॉन अब्राहम के दौरान गुजरात आए। 22 लोगों, मोदी से मिलने मुंबई जाने के बाद वे फिर कभी निवेश करने नहीं आए। इन 22 लोगों ने मोदी के खोखले ग्लोबल गुजरात समिट की पोल खोल दी है। अभिनेता वास्तव में अभिनेता साबित हुए हैं।

अभिनेता गुजरात आए और 22 विशेष मनोरंजन क्षेत्र बनाने के लिए समझौते किए। एक नहीं हुआ। 22 विशेष मनोरंजन क्षेत्र उमरगाम, सापुतारा, नल सरोवर, आलिया बेट, सरकारेश्वर, माधवपारा, शिवराजपुर, मांडवी, कपराडा, सुवाली, ओखामढ़ी, तिथल, नर्गोल, मालिया, मियां, ओडेदार, पिंगलेश्वर, गोपनाथ, चांच, भाविनी, धोधाकुड़ा और देवंडी। इन सभी 22 परियोजनाओं की मृत्यु हुई है।

12 साल में एक भी एंटरटेनमेंट जोन नहीं बनाया जा सका।

मोदी ने अमिताभ बच्चन पर गुजरात के लोगों के करोड़ों रुपये खर्च करके प्रसिद्धि पाई, लेकिन वह लोगों को कोई लाभ नहीं पहुंचा सके। लेकिन मोदी ने टीवी और अखबार और वेबसाइट मालिकों को सार्वजनिक फंड देकर खुद को मशहूर कर लिया है। अमिताभ विज्ञापनों में कहते थे कि कच्छ नहीं देखा तो कुछ नहीं देखा। अब, नमक के रेगिस्तान को देखने के लिए पर्यटक से 100 रुपये का प्रवेश शुल्क लिया जाता है।

अमिताभ बच्चन गुजरात की राजधानी गांधीनगर में गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक सिटी के पास खरीदी गई जमीन में दो बहुमंजिला, 30 मंजिला टावर बनाना चाहते थे। ऐसा भी नहीं हुआ।

अमिताभ वच्चन ने खुशबू गुजरात की - नाम से एक विज्ञापन अभियान शुरू किया। इस वीडियो सीरीज में उन्होंने राज्य के पर्यटन स्थलों का प्रचार-प्रसार शुरू किया। इसी बीच अमिताभ बच्चन ने गिफ्ट सिटी  के पास शाहपुर में 23619 वर्ग मीटर जमीन सात करोड़ रुपये में 2011 में खरीदी थी। 11 साल हो गया मगर अमिताभ कुछ कर नहीं शके। क्युं की गीफ्ट सिटीमां कोई आने के लिये तैयार नहीं थे।

देखने कि बात यह है की अमिताभ बच्चनने जीस स्थलो की केम्पेईन की वहां उन्होने पैसा नहीं लगाया। लिफ्ट सिटी की केम्पेईन नहीं कि, वहां पैसा 11 साल से पैसे लगाये है, मगर काम नहीं आया।

भले ही फिल्म सिटी नहीं बनी हो, लेकिन सनी लियोन जब शूटिंग के लिए आती हैं तो आउटडोर शूटिंग के लिए जाती हैं। सनी लियोन और अरबाज खान आए और फिल्म 'तेरा इंतजार' की शूटिंग के लिए 14 दिनों तक कच्छ में रहे। तब उनकी नजर अमिताभ बच्चन के विज्ञापनों की लिस्ट पर आ जाती थी।

वीरम गामारा की संपत्ति को पावर ऑप अटॉर्नी ने मुंबई के राजेश यादव के नाम 6.95 करोड़ रुपये देकर खरीदा था। यह 23 नवंबर 2011 को पंजीकृत किया गया था। गमारा को मुंबई में अमिताभ बच्चन के घर आने के लिए भी आमंत्रित किया गया था। अमिताभ बच्चन ने जब जमीन ली तो उन्होंने इस जमीन को बिना खेती के बना दिया। पांच सितारा होटल बनाने की भी घोषणा की। यह भी नहीं हुआ।

मौजूदा बाजार भाव के हिसाब से इस संपत्ति की कीमत करीब 70 करोड़ रुपये है। गिफ्ट सिटी के नियमों के अनुसार, 50 प्रतिशत क्षेत्र गिफ्ट सिटी शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा लिया जाना चाहिए था। लिया गया है या नहीं इसकी जांच की जा रही है।

मोदी ने अपने प्रचार के लिए अमिताभ बच्चन का इस्तेमाल किया है। दर्जनों फिल्मी सितारों ने मोदी सरकार के साथ समझौता पर हस्ताक्षर किए और निवेश का वादा किया। आज तक एक भी फिल्म सिटी नहीं बनी है। फिल्म स्टूडियो खड़ा नहीं हो सका।

मोदी ने गुजरात की जनता को मुंबई जैसा बॉलीवुड बनाने का सपना दिखाया था। लेकिन, फिल्म उद्योग राजस्थान और अन्य राज्यों में जा रहा है। राज्य सरकार ने वाइब्रेंट समिट से फिल्म सिटी की स्थापना के लिए 10 स्थानों का पता लगाने के लिए निवेश प्रतिबद्धता दिखाई थी। पर्यटन विभाग ने विशेष आर्थिक क्षेत्र जैसे 22 विशेष मनोरंजन क्षेत्र बनाने का निर्णय लिया था। कुछ नहीं हुआ।

कच्छ में, फिल्म निर्माता संजय दत्त और उनके एनआरआई दोस्त परेश घेलानी हॉलीवुड के यूनिवर्सल स्टूडियो के समान एक फिल्म सिटी बनाने के लिए तैयार थे। उन्होंने 1000 करोड़ रुपये के निवेश की भी घोषणा की। जैकी श्रॉफ को अहमदाबाद और नल सरोवर इलाके में 500 करोड़ की लागत से फिल्म स्टूडियो बनाना था। हालांकि उन्होंने स्थान का चयन भी कर लिया है, लेकिन परियोजना अभी हवा में है।

मुंबई बेस फिल्म निर्माता मिहिर भूटा और परेश रावल भी शामिल थे। वह दक्षिण गुजरात में 500 करोड़ की फिल्म सिटी बनाने का वादा कर मोदी के पास गए। उन्होंने भी निवेश नहीं किया। हॉलीवुड प्रोड्यूसर लूला ने कच्छ की लोकेशन पर फिल्म सिटी और स्टूडियो बनाने का वादा किया था। फिल्मस्टार और भाजपा के पूर्व सांसद शत्रुधन सिन्हा ने स्टूडियो के लिए कच्छ को चुना। उन्होंने आलिया बेट में फिल्म सिटी बनाने की घोषणा की।

गुजरात समाचार के पत्रकार गौतम पूरोहित का कहना है।

फिल्म निर्माता इंदर कुमार और उनके साथी अशोक ठकारिया फिल्म की शूटिंग के लिए स्टूडियो, होटल, रेस्तरां और मनोरंजन पार्क बनाने के लिए वडोदरा गए। सागर ग्रुप को वडोदरा में 35 एकड़ जमीन पर फिल्म अकादमी और स्टूडियो बनाना था। अंतर्राष्ट्रीय सलाहकार मॉट मैकडोनाल्ड ने अलीाबाद क्षेत्र में 789 करोड़ की लागत से एक गोल्फ कोर्स और फिल्म सिटी के निर्माण की घोषणा की थी, लेकिन ये परियोजनाएं अमल में नहीं आईं।

गुजरात में जब नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री थे, तो मुंबई से फिल्मी हस्तियों को गांधीनगर भेजने के लिए एक एजेंसी काम करती थी।

मोदी ने गुजरात के लोगों को धोखा दिया है कि गुजरात को मुंबई की तरह एक और बॉलीवुड बना दिया जाएगा। फिलसेलेब्रिटीज ने गुजरात को धोखा दिया है। मोदी ने फिल्म अभिनेताओं का इस्तेमाल किया है। टीवी और अखबार के मालिक और पत्रकार इस खबरों को छापकर मोदी की मदद कर अपना फायदा उठा रहे थे। 

अजय देवगन और उनके रियल एस्टेट पार्टनर ने चारनका में 25 मेगावाट का सोलर पार्क स्थापित किया है। हालांकि, अजय देवगन ने अभी तक 500 करोड़ के निवेश के वादे को पूरा नहीं किया है।

मोदी विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए हर दो साल में शिखर सम्मेलन आयोजित करते थे, लेकिन इससे गुजरात को ज्यादा फायदा नहीं हुआ। इन फिल्म अभिनेताओं ने इसे साबित कर दिया है। बेशक, शिखर उतना ही शानदार था जितना बाहर से दिखता था। अभी भी शिखर ठोस साबित होना बाकी है।

गुजराती फिल्में

गुजराती फिल्में देश की अन्य क्षेत्रीय फिल्मों से पिछड़ रही हैं। मोदी को इसे आगे लाने में कोई दिलचस्पी नहीं थी, वह खुद को प्रसिद्ध बनाने में रुचि रखते थे। गुजराती फिल्म उद्योग मर चुका है। 1990 के दशक तक कांग्रेस की सरकार चलने तक गुजराती फिल्मों का स्वर्ण युग था। हर दो से चार साल में एक फिल्म अच्छी बनती है। गुजराती दर्शकों को गुजराती फिल्मों से पूरी तरह से अलग कर दिया गया है।

2017 के चुनाव के बाद से नरेंद्र मोदी ने 920 वर्ग किलोमीटर में फैले घोलेरा स्मार्ट सिटी - एसआईआर फ्यूचरिस्टिक सिटी के बारे में बात की थी ताकि इसे गुजरात और भारत का सबसे उन्नत औद्योगिक केंद्र बनाया जा सके। लेकिन आज वहां एक भी बड़ा प्रोजेक्ट नहीं आया है। गुजरात के बाहर से लोगों ने धोलेरा के बाहर जमीन खरीदी है। लोगों को अरबों रुपये का नुकसान हुआ है।