मोदी से पहले भारत में 650 किलो मिटर की मेट्रो रेल थी

नरेंद्र मोदी देश में प्रधानमंत्री बने तब तक 650 किलोमीटर की शहरी रेल शुरू होने कि तैयार हो चुकी थी। 2017 तक 650 किमी लंबे मेट्रो रेल नेटवर्क ने भारत को दुनिया के शीर्ष 5 देशों में शामिल हो गया था। जो पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, बाजपेयी, मोरारजी देसाई और इंदिरा गांधी की वजह से हुआ।

मोदी से पहले भारत में 650 किलो मिटर की मेट्रो रेल थी
मोदी से पहले भारत में 650 किलो की मेट्रो रेल थी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 और 30 सितंबर को गुजरात के दौरे पर जा रहे हैं और अहमदाबाद मेट्रो रेल का उद्घाटन करेंगे।

21 सितंबर 2022 कोप्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कैमरे के माध्यम से गुजरात में महापौरों को संबोधित किया और कहा कि भारत के विभिन्न शहरों में मेट्रो रेल नेटवर्क 2014 में 250 किमी से कम था।

अब यह बढ़कर 750 किमी से अधिक हो गया हैजबकि एक और 1000 किमी मेट्रो रेल नेटवर्क निर्माणाधीन है।

हकीकत यह है कि जब नरेंद्र मोदी देश में प्रधानमंत्री बने तब तक 650 किलोमीटर की शहरी रेल शुरू होने कि तैयार हो चुकी थी। 2017 तक 650 किमी लंबे मेट्रो रेल नेटवर्क ने भारत को दुनिया के शीर्ष 5 देशों में शामिल हो गया था। जो पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंहबाजपेयीमोरारजी देसाई और इंदिरा गांधी की वजह से हुआ।

 

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की वजह से 2017 तक देश के 9 शहरों में मेट्रो रेल चल रही थी। 6 शहर में काम हो रहा था। मनमोहन सिंह ने तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को गुजरात में अहमदाबाद मेट्रो रेल बनाने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन मोदी ने मेट्रो रेल बनाने से इनकार कर दिया और अहमदाबाद में बीआरटीएस को चुना। बीआरटीएस परियोजना निजी वाहनों को सड़क से हटाने में सफल नहीं हो पाई है।

2017 तक देश के 9 शहरों में मेट्रो रेल चल रही थी, जिसमें 1984 में कोलकाता2002 में दिल्ली2011 में बेंगलुरु2014 में मुंबई2015 में चेन्नई2015 में जयपुर2017 में कोच्चि2017 में लखनऊ और 2017 में हैदराबाद में मेट्रो शुरू हुई थी। यह प्रोजेक्ट मोदी के प्रधानमंत्री बनने से पहले का था। जो मोदी के पहले से तैयार हो चूकी थी।

10 मार्च 2019 तकदेश में 650 किमी का मेट्रो रेल नेटवर्क था। जिन परियोजनाओं को मोदी से पहले सरकारों ने शुरू किया था। 2017 में 900 किमी पर काम चल रहा था।

2017 में1000 किलोमीटर लंबी परियोजना की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट को मंजूरी के लिए दिल्ली सरकार के सामने रखा गया था।

 

दिल्ली में 2017 तकगाजियाबाद से दिलशाद गार्डन और नोएडा के सिटी सेंटर तक दिल्ली मेट्रो नेटवर्क 250 स्टेशनों के साथ 343 किमी लंबा था।

2017 तकलखनऊ मेट्रो का 24 किमी लंबा खंड खोला गया था।

कानपुर और आगरा की 30 किमी लंबी मेट्रो रेल परियोजना को मंजूरी दी गई।

 

देश में मेट्रो

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की वजह से 2017 तक देश के 9 शहरों में मेट्रो चल रही थी।

1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने कोलकाता में पहली मेट्रो का उद्घाटन किया था।

मोदी के आने पर हैदराबाददिल्लीकोलकातालखनऊबैंगलोरचेन्नईकोच्चिमुंबईजयपुर में मेट्रो चल रही थी।

जब मोदी सत्ता में आएतो नागपुरपुणेभोपालइंदौरअहमदाबादविजयवाड़ागुवाहाटीविशाखापत्तनमकेरल और पटना में मेट्रो परियोजनाएं चल रही थीं।

2022 में भारत के 15 शहरों में मेट्रो रेल चल रही है। ये हैं कोलकातादिल्लीचेन्नईबेंगलुरुहैदराबादअहमदाबादजयपुरगुरुग्राममुंबईनोएडाकोच्चिलखनऊनागपुरकानपुर और पुणे। मोदी के प्रधानमंत्री बनने से पहले योजनाओं को मंजूरी दी गई थी।

कोलकाता मेट्रो

देश की पहली मेट्रो परियोजना पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में शुरू की गई थी। मेट्रोपॉलिटन ट्रांसपोर्ट प्रोजेक्ट की योजना वर्ष 1971 में मास्टर प्लान के तहत बनाई गई थी। प्रति दिन 5 लाख यात्री थे।

मेट्रो की पटरियां हुगली नदी से गुजरती हैं। किसी भी नदी से गुजरने वाली यह देश की पहली मेट्रो है।

 

दिल्ली मेट्रो

शाहदरा और तीस हजारी के बीच पहली मेट्रो 25 दिसंबर 2002 को दिल्ली में शुरू की गई थी। 4 लाख वाहनों को सड़क से हटाया जा सका। दिल्ली मेट्रो लालपीलेनीलेहरे और बैंगनी पांच लाइनों पर 8 डिब्बों के साथ 235 रेल के साथ 218 किमी चलती है। यूपी में दिल्लीनोएडा और गाजियाबादहरियाणा में गुरुग्राम और फरीदाबाद में फैले हुए हैं। एयरपोर्ट एक्सप्रेस में छह स्टेशन हैं।

येलो लाइन और ब्लू लाइन पर रोजाना 9 लाख यात्री और रेड लाइन पर रोजाना 3.5 लाख यात्री सफर करते हैं। 70 हजार करोड़ खर्च किए गए हैं।

 

बैंगलोर मेट्रो

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु मेट्रो से हर दिन 10 लाख यात्री सफर करते हैं। मेट्रो को नम्मा मेट्रो के नाम से जाना जाता है। 2006 में बैंगलोर में काम शुरू हुआ और 20 अक्टूबर 2011 को एमजी रोड और ब्यप्पनहल्ली स्टेशन के बीच पहली मेट्रो चली। वर्तमान में 42.30 किमी की दो मेट्रो लाइनें पर्पल और ग्रीन हैं।

समय पर काम पूरा नहीं होने से लागत चार गुना बढ़ गई। 40 हजार करोड़ खर्च किए गए हैं। 14 लाख यात्री हैं।

 

मुंबई मेट्रो

 

मुंबई मेट्रो की नींव का काम जून 2006 में शुरू हुआ और पहली मेट्रो ट्रेन जून 2014 में शुरू हुई। 11.40 किमी पर 4300 करोड़ खर्च किए गए। रोजाना 3.50 लाख यात्री आते थे।

 

चेन्नई मेट्रो

 

चेन्नई में पहली मेट्रो 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री जयललिता द्वारा 45 किमी में लॉन्च की गई थी। 14 हजार करोड़ खर्च किए गए। भारत सरकार ने जनवरी 2009 में मंजूरी दी। 2011 में काम शुरू हुआ था। 2026 तक 11 लाख लोग यात्रा करेंगे। 2017 में दूसरी रेल की कीमत 90 हजार करोड़ रुपए है।

 

कोच्चि मेट्रो

कोच्चि मेट्रो की शुरुआत 13 किलोमीटर लंबे अलुवा से पलारीवट्टम मार्ग पर 11 स्टेशनों से हुई। 25 किलोमीटर के इस प्रोजेक्ट पर कुल 5,180 करोड़ रुपये खर्च किए गए। 1 लाख यात्री यात्रा कर रहे थे।

 

जयपुर मेट्रो

जून 2015 में राजस्थान की राजधानी जयपुर में 3100 करोड़ की लागत से 31 स्टेशनों के साथ शुरू हुआ। 2010 में काम शुरू हुआ था।

 

लखनऊ मेट्रो

लखनऊ में 2017 में मेट्रो की शुरुआत हुई थी। यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 2014 में 6900 करोड़ की लागत से 8.5 किमी पर काम शुरू किया था। 23 किमी का काम चल रहा था।

 

हैदराबाद मेट्रो

72 किमी लंबी इस परियोजना में 66 स्टेशन हैं। काम 2012 में शुरू हुआ और 2017 में 24 स्टेशनों के साथ शुरू हुआ। 20 हजार करोड़ खर्च किए गए थे।

चीन में दुनिया की सबसे लंबी मेट्रो

चीन में 2022 में दुनिया की सबसे लंबी 8831 किलोमीटर लंबी शंघाई की दो नई मेट्रो लाइनें शुरू हो गई हैं। शंघाई में पूरी तरह से स्वचालित मेट्रो लाइनें हैं। 508 स्टेशनों के साथ 20 मेट्रो लाइनें हैं।