प्रमुख स्वामी महाराज के शताब्दी समारोह में शामिल होने के लिए राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री आमंत्रित

अहमदाबाद, छह नवंबर (भाषा) राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ब्रह्मस्वरूप प्रमुख स्वामी महाराज के एक महीने तक चलने वाले शताब्दी समारोह में हिस्सा लेने का न्योता भेजा गया है। समारोह का आयोजन 15 दिसंबर से बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था द्वारा किया जाएगा। प्रमुख स्वामी महाराज स्वामीनारायण संस्था के आध्यात्मिक गुरु थे। उनका जन्म सात दिसंबर, 1921 में हुआ और 1950 में वह संस्था के प्रमुख बने। उनका निधन 13 अगस्त, 2016 को हुआ। स्वामीनारायण संस्था ने एक बयान में कहा, ‘‘राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, प्रधानमंत्री नरेंद्री मोदी सहित दुनिया भर से तमाम प्रतिष्ठित लोगों को प्रमुख स्वामी महाराज

प्रमुख स्वामी महाराज के शताब्दी समारोह में शामिल होने के लिए राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री आमंत्रित

अहमदाबाद, छह नवंबर (भाषा) राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ब्रह्मस्वरूप प्रमुख स्वामी महाराज के एक महीने तक चलने वाले शताब्दी समारोह में हिस्सा लेने का न्योता भेजा गया है। समारोह का आयोजन 15 दिसंबर से बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था द्वारा किया जाएगा।

प्रमुख स्वामी महाराज स्वामीनारायण संस्था के आध्यात्मिक गुरु थे। उनका जन्म सात दिसंबर, 1921 में हुआ और 1950 में वह संस्था के प्रमुख बने। उनका निधन 13 अगस्त, 2016 को हुआ।

स्वामीनारायण संस्था ने एक बयान में कहा, ‘‘राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, प्रधानमंत्री नरेंद्री मोदी सहित दुनिया भर से तमाम प्रतिष्ठित लोगों को प्रमुख स्वामी महाराज के शताब्दी समारोह में भाग लेने के लिए न्योता भेजा गया है। एक महीने तक चलने वाले समारोहों का आयोजन 15 दिसंबर, 2022 से 15 जनवरी, 2023 तक अहमदाबाद के एसपी रिंग रोड के पास किया जाएगा।’’

बयान के अनुसार, महीने भर चलने वाले इस समारोह का आयोजन शहर के एसपी रिंग रोड पर स्थित 600 एकड़ क्षेत्र में फैले प्रमुख स्वामी नगर में किया जाएगा।

उसमें कहा गया है कि प्रमुख स्वामी नगर का निर्माण कार्य लगभग पूरा हो चुका है और यहां प्रवेश के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। बयान के मुताबिक, दुनिया भर से लाखों श्रद्धालुओं के समारोह में हिस्सा लेने की संभावना है।

बयान में कहा गया है कि सात भव्य सुसज्जित द्वार आगंतुकों का स्वागत करेंगे और समारोह परिसर के विभिन्न जोन का रास्ता यहां से पता चलेगा।

संस्था द्वारा जारी बयान के अनुसार, मुख्य द्वारा 280 फुट लंबा और 51 फुट ऊंचा होगा जबकि अन्य छह द्वार 116 फुट लंबे और 38 फुट ऊंचे होंगे। उसमें कहा गया है कि सभी द्वारों पर प्रमुख स्वामी महाराज के जीवन और उनके कामकाज की प्रेरक झलकियां नजर आएंगी।